हमारा विद्यालय-
सम्प्रति जुलाई 2020 में शिव देवी सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज, बदायूं से स्थानांतरित प्रधानाचार्य चंद्रभान शर्मा के कुशल निर्देशन एवं सफल मार्गदर्शन में 41 आचार्यों का श्रेष्ठ शिक्षण 1400 छात्रों को दिशावोध करने में सतत् प्रयत्नशील है।
विद्यालय परिसर- पीलीभीत रेलवे स्टेशन से उत्तर टनकपुर रोड पर लगभग १ कि. मी. दूर गौहनिया चौराहे से पूर्व माधोटांडा रोड पर सुरम्य परिवेश में नगरीय कोलाहल से दूर स्थापित हरीतिमा युक्त विशाल विद्यालय प्रांगण है। .......आगे पढ़ें




प्रधानाचार्य की कलम से-
बालक के मुस्कुराते हुए कमल रूपी मुख मंडल का अवलोकन आनंद की अनुभूति प्रदान कराता है। साथ ही निज मन में अंकुरण होता है स्व-सुपाल्य के पूर्ण विकसित होने का। यही भाव पूरित एवं आपकी मानाभिलाषा पूर्ति हेतु आपके नगर में प्रयासरत है एक ऐसा दीप जो आलोकित है "विद्या भारती अखिल भारतीय शिक्षा संस्थान" एवं "भारतीय शिक्षा समिति ब्रजप्रदेश उ० प्र०" से। जिसे आप "चिरोंजी लाल वीरेन्द्र पाल सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कालेज" के नाम से पुकारते है। आपके पाल्य में, "विद्या वान गुणी, अतिचातुर" के दर्शन करने वाले इस विद्यालये की परिचयात्मक विवरणिका आपके कर-कमलों में सादर समर्पित है यह विवरणिका आपको परिचय करायेगी संस्थान की नियमावली,विशेषताओ एवं क्रियाकलापों से, जो सफलतम सिद्ध होगी आपके पाल्यों के विकास में। आइये इस मकरंद सार को पढें और हस्तांतरित करें, अपने ईष्ट मित्रों को, ताकि ये "पुष्प" अपनी सुगंध समाज में बिखेर सके। आपके बहुमूल्य सुझाव एवं सहयोग की अपेक्षा के साथ

आपका स्नेहा अकांशी-
चंद्रभान शर्मा

प्रधानाचार्य




प्रबन्धक महोदय की कलम से-
"शिक्षा आजीवन चलने वाली प्रक्रिया है।" छात्र भी तदानुवर्त्ती कृति से अपने व्यक्तित्व को निखारने, सजाने और सवांरने का प्रयास करता है। हम आप भी संस्कृति, ज्ञान और चरित्र की पावन त्रिधारा के संस्पर्ष से छात्र का परिमार्जन करना ही लक्ष्य मानते हैं। लक्ष्य के अनुरूप सतत् साधना ही पथ प्रशस्ति का साधन बनेगा। अतः हम आप एवं छात्र उदात्त लक्ष्य की प्राप्ति तक अथक प्रयास करने हेतु संकल्पित हैं।

करुणा शंकर शुक्ला

प्रबन्धक


अपील
प्यारे बच्चों,
हम सब आपके अभिभावक, माता पिता हैं एवं हम सबसे बड़ा आपका शुभचिंतक नही हो सकता है। जैसा कि आप सबको पता है कि कोरोना वायरस के संक्रमण से पूरे देश को मिलकर लड़ाई लड़नी है। मा० प्रधानमंत्री जी ने स्वयं सभी का आव्हान किया है और सहयोग मांगा है। अतः मैं आपसे अपील करता हूँ कि कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए सभी बच्चे अपने - अपने घरों अथवा जहां भी हैं वहीं रहें। ट्रैन, बस, हवाई जहाज या किसी भी तरह के सार्वजनिक वाहनों/साधनों से यात्रा न करें। इस प्रकार के साधनों से यात्रा करने पर भी संक्रमण व्यापक रूप से फैलता है।
पुनः अपील है कि प्यारे बच्चों घर या जहां हैं वहीं पर सुरक्षित रहें एवम देश की इस लड़ाई में सहयोग करें।

चंद्रभान शर्मा
प्रधानाचार्य

आवशयक सूचना
समस्त परीक्षार्थियों की स्थगित परीक्षाओं को निरस्त कर दिया गया है। निरस्त परीक्षाओं के अंक सतत मूल्यांकन के आधार पर वार्षिक परीक्षा परिणाम में जोड़ दिए जायेंगे। परीक्षा परिणाम की तिथि की घोषणा बाद में की जाएगी। सभी छात्र घर में ही रहकर अगली कक्षाओं के विषयों का स्वाध्याय करें। अनावश्यक न घूमे, पार्क स्टेडियम इत्यादि जगहों पर जाने से बचे। साफ़ सफाई का विशेष ध्यान रखे हाथों को नियमित धोते रहे।

प्रवेश सूचना सत्र 2020-21 
* 1 अप्रैल 2020 से नवीन सत्र प्रारम्भ।

* प्रवेश हेतु पंजीकरण 1 फरवरी से प्रारम्भ

*अभी केवल रजिस्ट्रेशन होंगे, विद्यालय खुलने पर फीस जमा कर प्रवेश ले सकते है

*अगर रेजिस्ट्रेशन है तो स्कूल खुलने पर तुरंत एडमिशन

*बगैर रजिस्ट्रेशन प्रवेश संभव नहीं

नगर के सरस्वती शिशु मन्दिरों से कक्षा पंचम एवं अष्टम उत्तीर्ण छात्रों का सीधा प्रवेश। पंजीकरण कराना अनिवार्य।

* नवीन प्रवेश कक्षा 6,7,8,9 एवं 11 में होंगे।  कक्षा 6, 7, 8 व 9 में अंग्रेजी व हिंदी माध्यम।

* रजिस्ट्रेशन फॉर्म प्राप्त करने का समय प्रातः 8 बजे से 1 बजे तक

* कक्षा 6, 7,8,9,11 हेतु प्रवेश परीक्षा 30 मार्च 2020 को प्रातः 10 बजे सम्पन्न होगी।

* अन्य विस्तृत सूचनाएं विवरणिका से प्राप्त होंगी।

वैशिष्ट्य-

* अटल टिंकरिंग लैब द्वारा छात्रों में नवोन्मेष एवं कौशल विकास।

* "SMART CLASS" द्वारा आधुनिकतम शिक्षा।

* भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान, एवं कंप्यूटर को श्रेष्ठम एवं सुसज्जित प्रयोगशालाएं।

* समृद्ध व सुसज्जित पुस्तकालय।

* छात्रों के आवागमन हेतु बस सुविधा।

* विद्यालय के छात्रों का विभिन्न राष्ट्रीय खेलों खो-खो, हॉकी में प्रतिभाग।

* अनुभवी व विषय विशेषज्ञ अध्यापकों द्वारा विषय शिक्षण।
 
भावी योजनाएं
* शिक्षा उन्‍नयन हेतु शिक्षा समिति का निर्माण करना जो समय समय पर सुझाव प्रस्तुत करेगी। जिससे परीक्षा परिणाम और प्रभावी हो सके।

* श्रेष्ठ पुस्तकालय विकसित करना।

* समाज के उपेक्षित एवं आर्थिक रूप से से विपन्‍न छात्रों को शिक्षा की व्यवस्था करना।

* विभिन्‍न पाठ्‍यक्रमों में प्रवेशार्थ जानकारी उपलब्ध कराने हेतु परामर्श केन्द्र की स्थापना करना।

* राष्ट्रीय मुक्‍त विद्यालय से विभिन्‍न पाठ्‍यक्रमों की शिक्षा व्यवस्था करना ।

* सी.पी.एम.टी. / आई.आई.टी. / जी.टी.आई. एवं अन्य पाठ्‍अयक्रमों हेतु कोचिंग की व्यवस्था करना।

* इंग्लिश स्पीकिंग कोर्स की व्यवस्था करना।

* संगीत, कला, सिलाई, बुनाई आदि के प्रशक्षिण की सुविधा प्रदान करना।

* विद्यालय की बेवसाइट पर विद्यालय की गतिविधियों एवं परीक्षाफल उपलब्ध कराना।